Agni Prime Missile Test : पाक-चीन के छूटेंगे पसीने, भारत ने किया अपनी सबसे एडवांस अग्नि ‘प्राइम’ मिसाइल का सफल परीक्षण

नई दिल्ली। डीआरडीओ ने शनिवार को एक और कीर्तिमान स्थापित करते हुए परमाणु क्षमता से संपन्न देश की अब तक की सबसे एडवांस अग्नि प्राइम मिसाइल (Agni Prime Missile Test) का सफल परीक्षण किया है। शनिवार सुबह ओडिशा के एपीजे अब्दुल कलाम द्वीप से अग्नि सीरीज की बैलिस्टिक मिसाइल प्राइम का सफल परीक्षण किया गया।

इस सफल परीक्षण के बाद रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने डीआरडीओ को बधाई दी। अग्नि प्राइम मिसाइल (Agni Prime Missile Test) की बात करें तो, यह अग्नि सीरीज की सबसे एडवांस मिसाइल है। इस मिसाइल की मारक क्षमता 1000 किमी से 2000 किमी के बीच है। अधिकारियों ने बताया कि, इस टेस्ट में प्राइम मिसाइल में कई नए फीचर्स जोड़े गए हैं। यह मिसाइल अपने सभी उद्देश्यों को अब बिल्कुल सटीकता से हासिल करने में सफल रही है।

ये भी पढ़ें : भारत के एक मिसाइल टेस्ट ने उड़ाए चीन और पाक के होश, DRDO ने बनाई SMART मिसाइल

ओडिशा के बालासोर के तट पर शनिवार को डीआरडीओ ने सुबह 11.06 बजे अग्नि प्राइम मिसाइल का परीक्षण करना शुरू किया था। डीआरडीओ के चेयरमेन जी सतीश रेड्डी ने आधुनिक फीचर से लैस अग्नि प्राइम मिसाइल के सफल परीक्षण पर टीम के प्रयासों की सराहना की। इसके साथ उन्होंने परीक्षण की दिशा में इस साल लगातार मिलती सफलता पर टीम को बधाई भी दी।

रक्षा मंत्री ने दी बधाई

अग्नि प्राइम के सफल परीक्षण पर रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने डीआरडीओ को बधाई दी। रक्षा मंत्री ने कहा कि डीआरडीओ को इस सफल परीक्षण के लिए ढ़ेरों शुभकामनाएं। वहीं उन्होंने मिसाइल के उम्दा प्रदर्शन पर भी अपनी खुशी जाहिर की।

Agni Prime Missile Test: ये फीचर बनाते हैं खास

टू स्टेज और सॉलिड फ्यूल पर आधारित अग्नि प्राइम मिसाइल (Agni Prime Missile Test) को एडवांस रिंग-लेजर जायरोस्कोप पर आधारित जड़त्वीय नेविगेशन सिस्टम द्वारा गाइडेंस मिलता है। दोनों चरणों में एडवांस रॉकेट मोटर्स हैं। इसका गाइडेंस सिस्टम इलेक्ट्रोमैकेनिकल एक्ट्यूएटर्स से लैस हैं। रक्षा विभाग से जुड़े सूत्रों के अनुसार सिंगल स्टेज वाले अग्नि- 1 के विपरीत, डबल स्टेज वाले अग्नि प्राइम फ्लैक्सिबिलिटी के साथ सड़क और मोबाइल लॉन्चर दोनों से फायर किया जा सकता है।

स्लीक डिजाइन के साथ अधिक मारक क्षमता

हालांकि अधिकारियों ने मिसाइल से जुड़ी डिटेल की अधिक जानकारी देने से इनकार करते हुए कहा कि अग्नि प्राइम में अत्याधुनिक तकनीक के प्रयोग के कारण यह पिछले एडिशन की तुलना में कम वजन वाली स्लीक मिसाइल शक्ति है। इससे इसकी मारक क्षमता पहले तुलना में अधिक घातक होगी।