भारत-नेपाल सीमा पर गायब हुए बॉर्डर पिलर्स, नेपाल सेना ने बनाई 5 नई आउटपोस्ट… हाई अलर्ट

नई दिल्ली. कोरोना संकट के बीच भारत-नेपाल सीमा (Indo Nepal Border) से एक चौंकाने वाली खबर सामने आ रही है. दरअसल, यूपी के लखीमपुर खीरी में नेपाल बॉर्डर पर भारत की तरफ से लगाए गए बॉर्डर पिलर्स गायब मिले हैं. सशस्त्र सीमा बल (SSB) के अधिकारियों ने इस संबंध में गृह विभाग के साथ जिला प्रशासन को इस बात की जानकारी दी है.

इसके साथ ही जिले से सटी सीमा पर नेपाल की तरफ से 5 नए बॉर्डर आउटपोस्ट भी बनाए गए हैं. ऐसे में भारत ने भी नेपाल सीमा से लगी सभी बॉर्डर आउटपोस्ट्स को हाई अलर्ट जारी कर दिया है.

सीमा से गायब हुए बॉर्डर पिलर्स

दरअसल, SSB की 39वीं बटालियन लखीमपुर खीरी में भारत-नेपाल बॉर्डर पर 62.9 किलोमीटर के इलाके की चौकसी करती है. हाल ही में कमांडेंट मुन्ना सिंह ने जिले के डीएम शैलेंद्र सिंह को एक पत्र लिखकर भारत-नेपाल सीमा पर गायब हुए पिलर्स और अतिक्रमण के बारे में जानकारी दी.

बता दें कि जिले की सीमा नेपाल के कंचनपुर और कैलाली जिलों से लगती है. नेपाल-बिहार बार्डर की घटना के बाद से सभी आउटपोस्ट को हाई अलर्ट कर दिया गया है.

नेपाल ने भारत की जमीन भी अलॉट कर दी

अंग्रेजी अखबार टाइम्स ऑफ इंडिया ने एसएसबी कमांडेंट से इस मसले पर बातचीत की. एसएसबी कमांडेंट ने हालांकि गोपनीय मामला होने का हवाला देते हुए गायब हुए पिलर्स की संख्या बताने से इंकार कर दिया. हालांकि उन्होंने यह जरूर कहा कि अतिक्रमण भौगोलिक कारणों से हो सकता है. नेपाल के लेखपालों ने नो मेन्स लैंड में लोगों को जमीन अलॉट किया है. कुछ केसों में तो बॉर्डर के पार भी जमीनें दी गई हैं.

ये भी पढ़ें : आरक्षण की वजह से देशभर में रुके 1.3 लाख प्रमोशन, मोदी सरकार ने सुप्रीम कोर्ट से लगाई गुहार

उन्होंने बताया, ‘इसकी वजह कुछ प्रशासकीय गलतियां भी हो सकती हैं. इसलिए हमने डीएम को जानकारी दे दी है, जिससे वे नेपाल के अधिकारियों के साथ बैठक कर मामले को हल कर लें.’ वहीं नेपाल ने सीमा पर उन जगहों पर नए आउटपोस्ट बनाए हैं, जहां नेपाल के सशस्त्र प्रहरी बल के जवानों की पोस्टिंग है.

बॉर्डर को लेकर भारत-नेपाल के बीच विवाद

दरअसल, नेपाल के नए नक्शे को लेकर भारत और पड़ोसी देश के बीच तनाव जारी है. नेपाल ने अपने नए नक्शे में भारत के कई इलाके को अपना हिस्सा बताया है. नेपाल का दावा है कि लिपुलेख, कालापानी और लिपिंयाधुरा उसके क्षेत्र में आते हैं.

नेपाल ने हाल ही में अपना नया नक्शा जारी कर दिया, जिसमें ये तीनों क्षेत्र उसके अंतर्गत दिखाए गए हैं. नेपाल के इस कदम से भारत के साथ उसके रिश्‍तों पर गहरा असर पड़ रहा है. हालांकि, भारत ने साफ कर दिया है कि वह अपनी संप्रभुता से समझौता नहीं करेगा. विदेश मंत्रालय की तरफ से कहा गया था कि इस सीमा विवाद का हल बातचीत के माध्यम से निकालने के लिए आगे बढ़ना होगा.