Ind vs Eng 1st Test: इंग्लैंड ने जीता टॉस, पहले बल्लेबाजी का फैसला

0
524
New Delhi: Chennai Test, India vs England Day 1 Live Cricket Score: कोविड-19 के कारण लंबे ब्रेक के कारण भारत में एक साल से भी अधिक समय बाद अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट की वापसी हो रही है और इसके लिए उसका प्रतिद्वंद्वी इंग्लैंड जैसी मजबूत टीम है, जिसकी अगुवाई जो रूट जैसा धाकड़ बल्लेबाज कर रहा है।

ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ जबर्दस्त वापसी से अपने जज्बे का शानदार नमूना पेश करके उत्साह से ओतप्रोत भारतीय टीम अब विराट कोहली की अगुवाई में आज से शुरू होने वाली चार टेस्ट मैचों की सीरीज में इंग्लैंड (India vs England Day 1 Live Cricket Score) की टीम का सामना कर रही है, जिसमें दोनों टीमों की निगाहें विश्व टेस्ट चैंपियनशिप (डब्ल्यूटीसी) के फाइनल में जगह बनाने पर टिकी होंगी। इंग्लैंड के कप्तान जो रूट ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी का फैसला लिया है।

रूट का 100वां टेस्ट

कोविड-19 के कारण लंबे ब्रेक के कारण भारत में लंबे समय बाद अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट की वापसी होगी और इसके लिए उसका प्रतिद्वंद्वी इंग्लैंड जैसी मजबूत टीम है जिसकी अगुवाई जो रूट जैसा धाकड़ बल्लेबाज कर रहा है। रूट अपना 100वां टेस्ट मैच खेलेंगे। उनके पास वर्तमान समय के सबसे मजबूत तेज गेंदबाजी आक्रमण और इस खेल का सर्वश्रेष्ठ ऑलराउंडर है। लेकिन भारतीय टीम को कोहली की वापसी से मजबूती मिली है जो ऑस्ट्रेलिया में पहले टेस्ट के बाद पैटरनिटी लीव के बाद स्वदेश लौट गए थे।

दोनों टीमें हैं बेजोड़ फॉर्म में

भारत ने इसके बाद ऑस्ट्रेलिया में चमत्कारिक प्रदर्शन करके सीरीज 2-1 से जीती थी जबकि इंग्लैंड की श्रीलंका से 2-0 से क्लीन स्वीप करके यहां पहुंची है। इसलिए इस सीरीज में मुकाबला रोमांचक होने की संभावना है। भारत का सामना हालांकि उस इंग्लैंड से है जो पिछले 15 वर्षों में भारत में टेस्ट सीरीज (2012) जीतने वाली एकमात्र टीम है।

भारतीय बल्लेबाजों की होगी परीक्षा

इंग्लैंड के पास रूट के रूप में ऐसा बल्लेबाज है जो जानता है कि उपमहाद्वीप की पिचों पर स्पिनरों का कैसे सामना करना हे। श्रीलंका में हाल में दो बड़े शतक बनाकर उन्होंने इसे साबित किया था। जेम्स एंडरसन और स्टुअर्ट ब्रॉड जैसे गेंदबाज रोहित शर्मा के धैर्य और शुभमन गिल की तकनीक की परीक्षा लेने के लिए तैयार हैं। जोफ्रा आर्चर अपनी शॉर्ट पिच गेंदों से भारतीय बल्लेबाजों को परेशान करने की कोशिश करेंगे और अगर पुरानी गेंद रिवर्स स्विंग लेती है तो बेन स्टोक्स उसका फायदा उठाना चाहेंगे।

आत्ममुग्धता से बचना चाहेगा भारत

भारतीय उपकप्तान और ऑस्ट्रेलिया में कोहली की अनुपस्थिति में टीम की अगुवाई करने वाले अजिंक्य रहाणे ने कहा, ‘ऑस्ट्रेलिया की सीरीज अब अतीत की बात है। हम इंग्लैंड की टीम का सम्मान करते हैं और एक बार में एक मैच पर ध्यान देंगे।’ जाहिर है कि भारतीय टीम ऑस्ट्रेलिया में जीत के बाद इंग्लैंड के खिलाफ किसी तरह की आत्ममुग्धता से बचना चाहेगी।

ऑस्ट्रेलिया की तेज पिचों पर ठोस बल्लेबाजी के बाद अब भारतीयों को चेन्नै की लाल मिट्टी वाली धीमी पिच से सामंजस्य बिठाना होगा। इस पिच में पहले दिन उछाल होता है लेकिन तीसरे दिन से यह स्पिनरों को मदद देना शुरू कर देती है। ऑस्ट्रेलिया में कई गेंदें अपने शरीर पर झेलने वाले चेतेश्वर पुजारा इस तरह की पिचों पर बड़े स्कोर खड़ा करना चाहेंगे क्योंकि यहां गेंद लगातार कमर के ऊपर नहीं जाती है।

इंग्लैंड की यह है सबसे बड़ी कमजोरी

भारतीय बल्लेबाजों को इंग्लैंड के धीमी गति के गेंदबाजों के सामने खेलने में बहुत दिक्कत नहीं आनी चाहिए। मोईन अली को छोड़कर इंग्लैंड के दोनों स्पिनरों डॉम बेस और जैक लीच को भारत के दमदार बल्लेबाजों को गेंदबाजी करने का अनुभव नहीं है। जब गेंद पुरानी हो जाएगी तब ऋषभ पंत जैसे विस्फोटक बल्लेबाज उनकी बखिया उधेड़ सकते हैं। भारत को अगर डब्ल्यूटीसी फाइनल में जगह बनाकर लॉर्ड्स में न्यूजीलैंड का सामना करना है तो उसे अच्छे गेंदबाजी संयोजन के साथ उतरना होगा।

27 वर्ष बाद होगा ऐसा

इस मैच में नितिन मेनन और अनिल चौधरी अंपायरिंग करते दिखाई देंगे। ये दोनों ही अंपायर भारतीय हैं और लंबे समय बाद ऐसा देखने को मिलेगा कि किसी घरेूल टेस्ट में दोनों ही अंपायर स्वदेशी हैं।

इससे पहले फरवरी, 1994 में ऐसा हुआ था। उस वक्त भारत और श्रीलंका के बीच अहमदाबाद में टेस्ट खेला गया था। इस मैच में एएल. नरसिम्हा और वीके रामास्वामी अंपायर थे। रोचक बात यह है कि इसी मैच में भारत के पूर्व कप्तान कपिल देव ने रिचर्ड हेडली के 431 टेस्ट विकेटों को पीछे छोड़ा था।

टीम इस प्रकार हैं…

भारत: विराट कोहली (कप्तान), अजिंक्य रहाणे (उप-कप्तान), रोहित शर्मा, शुभमन गिल, चेतेश्वर पुजारा, ऋषभ पंत (विकेटकीपर), रविचंद्रन अश्विन, जसप्रीत बुमराह, ईशांत शर्मा, मोहम्मद सिराज, वॉशिंगटन सुंदर, कुलदीप यादव, अक्षर पटेल, हार्दिक पंड्या, मयंक अग्रवाल, केएल राहुल, ऋद्धिमान साहा, शार्दुल ठाकुर।

इंग्लैंड: जो रूट (कप्तान), जैक क्राउली, डोमिनिक सिबली, रोरी बर्न्स, ओली पोप, डैन लॉरेंस, बेन स्टोक्स, जोस बटलर (विकेटकीपर), बेन फॉक्स, मोईन अली, क्रिस वोक्स, जोफ्रा आर्चर, जेम्स एंडरसन, स्टुअर्ट ब्रॉड, डोमिनिक बेस, जैक लीच, ऑली स्टोन।