देश के लिए श ही;द हुआ Imran Kalubhai Sayli, पिता बोले-देश पर मर-मिटने को मेरे अभी और बेटे हैं

जूनागढ़. भारतीय सेना में 13 साल से सेवा दे रहे गुजरात के सैनिक इमरान कालुभाई सायली (Imran Kalubhai Sayli) की अरुणाचल प्रदेश में गश्ती के दौरान जान चली गई. गश्त करते वक्त इमरान कालुभाई सायली (Imran Kalubhai Sayli) वहां गहरी खाई में गिरे थे.

इमरान का निधन होने पर अन्य जवानों ने सूचना बड़े अधिकारियों को दी. जिसके बाद गुजरात में गिर सोमनाथ जिले के तालाला गिर स्थित उनके घरवालों को जानकारी दी गई.

पेट्रोलिंग के दौरान हुआ हादसा

बताया जा रहा है कि, अरुणाचल प्रदेश में इमरान कालुभाई सायली (Imran Kalubhai Sayli 30) के साथ यह हादसा मंगलवार को हुआ. घटना के वक्त वह अपने साथियों संग बॉर्डर पेट्रोलिंग कर रहे थे. मूल रूप से गुजरात के रहने वाले इमरान कालुभाई का पार्थिव शरीर उनके गांव लाया गया, जहां उन्हें सुपुर्द ए खाक किया गया.

इससे पहले बुधवार को इमरान कालुभाई सायली (Imran Kalubhai Sayli) का शव भारतीय वायु सेना के हेलिकॉप्टर से जूनागढ़ लाया गया था. वहां से सेना के एक वाहन के जरिए सडक़ मार्ग से होते हुए उनके निवास स्थल तालाला गिर पहुंचाया गया. इस दौरान श ही द इमरान को देखने रास्ते भर में लोग उमड़े. तालाला गिर गांव पहुंचने पर बड़ी संख्या में लोगों ने श्रद्धांजलि अर्पित की. श ही द के परिजनों को जूनागढ़ जिला पूर्व सैनिक संघ की ओर से भी सांत्वना दी गई.

पिता बोले-देश पर मर-मिटने को मेरे अभी और बेटे हैं

इस दौरान इमरान कालुभाई सायली (Imran Kalubhai Sayli) के पिता कालुभाई ने बेटे को याद किया. पिता कालुभाई ने बताया- इमरान पिछले 13 वर्ष से भारतीय सेना की रेजिमेंट में कार्यरत थे. गुजराती भाषा में उन्होंने कहा कि, ‘हजु पण देश माटे मरी मिटवा मारा दीकराओ छे.’ यानी अभी भी देश के लिए मर मिटने के लिए उनके और बेटे हैं. उनके अन्य परिजनों ने भी उन्हें इस तरह याद किया.

ये भी पढ़ें: पहले फ्री कोरोना वैक्सीन का वादा, फिर इनकार, आखिर क्या चाहते हैं पीएम मोदी : राहुल गांधी

श ही द इमरान को अंतिम विदाई देने बड़ी संख्या में लोग आए. लोगों ने भारत माता की जय के नारे लगाए. इसके अलावा उनके सम्मान में तालाला गिर गांव के व्यापारियों ने अपना काम-धंधा भी बंद रखा. जिस वक्त इमरान को हेलिकॉप्टर से जूनागढ़ लाया गया, जब वहां लोगों को काफी हुजूम उमड़ा. हालांकि, इस दरम्यान सोशल डिस्टेंस भी बना रहा. कोविड की गाइडलाइंस फॉलो की गईं.