IAF ने किया Akash Missile का परीक्षण, सीमा लांघते ही राख होंगे दुश्मन के विमान

हैदराबाद: भारत-पाकिस्तान और भारत-चीन सीमा पर जारी विवादों के बीच भारतीय वायुसेना ने अपनी सुरक्षा और मजबूत कर ली है. भारतीय वायुसेना ने अपग्रेडेड आकाश मिसाइलों (Akash Missile) का सफल परीक्षण किया है. वायुसेना ने परीक्षण के तौर पर करीब 10 आकाश मिसाइलें (Akash Missile) हवा में दागीं.

परीक्षण में इस बात का ध्यान रखा गया कि संघर्ष बढ़ने की सूरत में अगर दुश्मन के विमान भारतीय वायु सीमा का उल्लंघन करें तो उन्हें हर परिस्थिति में मार गिराया जाए.

आंध्र प्रदेश में किया गया टेस्ट

आंध्र प्रदेश के सूर्यलंका टेस्ट फायरिंग रेंज में पिछले हफ्ते हुए इन परीक्षणों के लिए अलग-अलग परिस्थितियां पैदा की गईं थी. इस दौरान आकाश मिसाइलों (Akash Missile) ने लक्ष्यों पर सीधा हमलाकर मार गिराया. इन परीक्षणों के जरिए भारत ने चीन और पाकिस्तान को सीधा संदेश भी दिया कि यदि उसने सीमा लांघने की गलती की तो उसका अंजाम भुगतने के लिए उसे तैयार रहना होगा.

यह भी पढ़ें: हिन्दुओं की मां-बेटियां अहमद शाह दुर्रानी ले जाता तो उधर टके-टके की बिकती थी: योगराज सिंह

वायु सेना अधिकारियों के मुताबिक सूर्यलंका टेस्ट फायरिंग रेंज में कंबाइंड गाइडेड वेपंस फायरिंग 2020 एक्सरसाइज की गई. इस एक्सरसाइज में हवा में करीब 10 आकाश मिसाइलें (Akash Missile) टेस्ट की गई. परीक्षण के दौरान अलग- अलग दिशाओं से दुश्मन के काल्पनिक जहाज बनाकर उड़ाए गए. जिन पर आकाश मिसाइलों ने सटीक निशाना लगाया.

इग्ला का भी हुआ परीक्षण

इंडियन एयर फोर्स (IAF) ने एक्सरसाइज के दौरान आकाश मिसाइलों (Akash Missile) के साथ-साथ कंधे पर रखकर दागी जाने वाली इग्ला मिसाइलों Igla missile का भी परीक्षण किया. बड़ी बात यह है कि ये दोनों सिस्टम अभी वास्तविक नियंत्रण रेखा यानी (LAC) के साथ-साथ दूसरे सेक्टर्स में भी लगे हुए हैं ताकि दुश्मन का कोई जहाज भारतीय वायु क्षेत्र में घुसने का प्रयास करे तो उसे तुरंत मार गिराया जा सके.

बता दें कि आकाश देश में बने सफलतम वेपंस सिस्टम में एक है. आकाश मिसाइल (Akash Missile) को हाल ही में अपग्रेड किया गया है और इसमें search instruments लगाए जा रहे हैं ताकि लक्ष्य को ढूंढने में पहले से ज्यादा आसानी हो सके. भारत की जरूरतों के हिसाब से रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (DRDO) लगातार इसे आधुनिक बनाने में लगा है.