Gujjar Reservation Andolan: आरक्षण के नाम पर गुर्जरों का हंगामा, रेल की पटरियां उखाड़ रहे प्रदर्शनकारी… दिल्ली-मुंबई रूट जाम

0
294
Gujjar Reservation Andolan: आरक्षण के नाम पर गुर्जरों का हंगामा, रेल की पटरियां उखाड़ रहे प्रदर्शनकारी... दिल्ली-मुंबई रूट जाम
Source: Google

जयपुर. आरक्षण की मांग को लेकर राजस्थान में गुर्जर आंदोलन (Gujjar Reservation Andolan) शुरु हो गया है. कर्नल किरोड़ी सिंह बैंसला और विजय बैंसला की अगुवाई में गुर्जर समाज के लोगों ने पीलूपुरा में रेलवे ट्रेक को जाम कर दिया. यहां तक कि आक्रोशित गुर्जरों ने रेलवे ट्रैक की फिश प्लेट के साथ ही पटरियों तक उखाड़ दी हैं.

प्रदर्शनकारी कल दोपहर से ही रेलवे ट्रैक पर डेरा डालकर बैठे हुए हैं. गुर्जर आंदोलन (Gujjar Reservation Andolan) की वजह से दिल्ली-मुबंई रूट पर ट्रेनों का संचालन रोक दिया गया है.

सरकार पर निर्भर करेगी गुर्जर आंदोलन की रूपरेखा

दूसरी तरफ समाचार चैनल जी न्यूज से बातचीत करते हुए कर्नल बैंसला ने कहा है कि गुर्जर आंदोलन (Gujjar Reservation Andolan) की रुप रेखा, अब राजस्थान सरकार के फैसले पर निर्भर करेगी. कर्नल बैंसला ने कहा कि वह मंत्री अशोक चांदना का इंतजार कर रहे है. दूसरी तरफ खबर ये भी है कि सरकार का प्रस्ताव लेकर पहुंचे संजय गोयल का प्रस्ताव विजय बैंसला ने ठुकरा दिया है.

ये भी पढ़ें: ब्रेकिंग: राम विलास पासवान की मौत को इस पार्टी ने बताया बड़ी साजिश, बेटे Chirag Paswan पर लगाए आरोप

इसी बिच मंत्री अशोक चांदना, कर्नल बैंसला सहित गुर्जर नेताओं से वार्ता के लिए हिंडौन पहुंचे, लेकिन रास्ता जाम होने की वजह से वापस जयपुर लौट गए. मंत्री अशोक चांदना ने आंदोलनकरियों से हिं; सा न करने की अपील की है.

गुर्जर आंदोलन के चलते इंटरनेट बंद

गुर्जर आंदालेन (Gujjar Reservation Andolan) की संवेदनशीलता को देखते हुए अलवर जिले में गुर्जर बाहुल्य क्षेत्र में इंटरनेट बंद कर दिया गया है. इसमें थानागाजी, नारायणपुर, मालाखेड़ा व सदर थाना क्षेत्र आते हैं. आज नटनी का बारां में गुर्जरों की बैठक है. पिलुकापूरा से निर्देश मिलने पर करेंगे आगे की कार्यवाही की जाएगी. फ़िलहाल प्रशासन अलर्ट मोड़ पर है.

रेल सेवा बाधित

गुर्जर आंदोलन के दौरान (Gujjar Reservation Andolan) गुर्जर अपनी मांगों को लेकर गुर्जर रेल की पटरियों पर लेट गए और सरकार को चेतावनी दी कि जब तक उनकी मांगें पूरी नहीं की जाएंगी वो पटरियों से नहीं हटेंगे. इस कारण भारतीय रेलवे को दिल्ली और मुंबई के बीच चलने वाली 16 ट्रेनों के रूट में बदलाव करना पड़ा. कई ट्रेनों को झांसी-बीना-नागदा रूट पर मोड़ दिया गया.

शनिवार को हुई थी बैठक

गुर्जर नेताओं के एक प्रतिनिधि मंडल ने शनिवार को राज्य सरकार के साथ बातचीत की थी और दोनों पक्षों में 14 बिंदुओं पर सहमति बनी थी. बैठक के बाद गुर्जर नेता हिम्मत सिंह ने कहा था कि बातचीत सकरात्मक रही, इससे समाज संतुष्ट होगा और आंदोलन की जरूरत नहीं पड़ेगी. हालांकि बैठक में कर्नल किरोड़ी सिंह बैंसला शामिल नहीं हुए थे.