बड़ी खबर: देखती रह गई दुनिया, भारतीय कंपनी Glenmark ने लांच की कोरोना वायरस की पहली दवा

0
918
Coronavirus Vaccine India Glenmark
अगर सबकुछ ठीक रहा तो ग्लेनमार्क की ये दवाएं जून के अंत तक बाजार में उपलब्ध होंगी (Image Courtesy : Google)

नई दिल्ली. कोरोना संक्रमण के बढ़ते प्रसार के बीच भारतीय दवा कंपनी ग्लेनमार्क (Glenmark) ने इतिहास रच दिया है. दरअसल, ग्लेनमार्क फार्मा ने भारतीय औषधि महानियंत्रक यानी DCGI से मंजूरी मिलने के बाद मार्केट में कोरोना टैबलेट Fabiflu सप्लाई करनी शुरू कर दी है.

इसके साथ ही कोरोना वायरस से जुड़ी पहली दवा मार्केट में लांच करने वाला भारत पहला देश बन गया है.

इतनी होगी दवा की कीमत

DCGI ने ग्लेनमार्क की जिस दवाओं को मंजूरी दी है उसे फेबीफ्लू (FabiFlu) है. ग्लेनमार्क फार्मा द्वारा जारी किए गए आधिकारिक बयान के अनुसार, यह पहली खाने वाली दवा है, जिसे मंजूरी दी गई है. इस एक गोली की कीमत 103 रुपए होगी.

क्या बोली कंपनी

ग्लेनमार्क फार्मा द्वारा इस लेकर जारी एक बयान में कहा गया है कि यह मंजूरी डाटा के मूल्यांकन और विषय विशेषज्ञ समिति के परामर्श के आधार पर दी गई है. दूसरी तरफ आधिकारिक सूत्रों को कहना है कि DCGI ने आपातकालीन उपयोग के लिए इसे मंजूरी दी है.

ये भी पढ़ें : राजमिस्त्री से बोले PM मोदी, गांव में मजदूर कम पड़ जाएंगे, इतना काम देना है मुझे

हालांकि, फेबीफ्लू के इस्तेमाल की भी शर्ते होंगी जिसमें मरीज के परिजनों से इसके उपयोग की लिखित मंजूरी लेना शामिल है. साथ ही कंपनी को इस दवाई की सुरक्षा और प्रभाव का आकलन करने के लिए शुरुआती 1000 रोगियों की निगरानी करनी होगी.

केवल युवाओं पर होगी इस्तेमाल

दवा के उपयोग को लेकर DCGI ने यह भी सिफारिश की है कि इसे केवल युवाओं पर ही उपयोग किया जाए. लिवर और किडनी के मरीजों के अलावा गर्भवती और स्तनपान कराने वाली महिलाओं को यह दवा ना देने की सलाह दी गई है.

इन शर्तों के साथ मिली अनुमित के आधार पर ही इस दवा का उपयोग मरीजों के इलाज में हो सकेगा. साथ ही मरीजों को इस दवा का डोज भी तय करके दिया जाएगा. पहले दिन इसकी 1800 एमजी की दो खुराक लेनी होगी. उसके बाद 14 दिन तक 800 एमजी की दो खुराक लेनी होगी.