Gilgit Baltistan को PAK ने बनाया ‘अस्थाई प्रांत’, भारत का जवाब-तुरंत खाली करो हमारा इलाका

नई दिल्ली. कई मोर्चों पर मुंह की खाने के बाद पाकिस्तान की इमरान सरकार ने नया पैंतरा चलते हुए गिलगित-बाल्टिस्तान (Gilgit Baltistan) को अस्थाई प्रांत का दर्जा दे दिया है. पाकिस्तान की इस नापाक हरकत पर भारत ने करारा जवाब दिया है. भारत ने गिलगित-बाल्टिस्तान (Gilgit Baltistan) को प्रांतीय दर्जा देने की निंदा करते हुए इसे खारिज कर दिया है.

भारत ने साथ ही पाकिस्तान से उसका अवैध कब्जा हटाकर तुरंत गिलगित-बाल्टिस्तान (Gilgit Baltistan) को खाली करने को कहा है.

विदेश मंत्रालय की दो टूक

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अनुराग श्रीवास्तव ने कहा कि पाकिस्तान के अवैध और जबरन कब्जे वाले भारतीय क्षेत्र गिलगित-बाल्टिस्तान (Gilgit Baltistan) के एक हिस्से में बदलाव लाने के पाकिस्तान के किसी भी प्रयास को भारत दृढ़ता से खारिज करता है. इसके साथ ही उन्होंने पड़ोसी देश से तत्काल उस इलाके को खाली करने को कहा है.

इमरान ने की थी घोषणा

बता दें कि पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने रविवार को गिलगित में कहा था कि उनकी सरकार ने गिलगित-बाल्टिस्तान क्षेत्र को अस्थायी प्रांत का दर्जा दिया है. विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने कहा, 1947 में जम्मू कश्मीर के भारत संघ में वैध, पूर्ण और अटल विलय की वजह से तथाकथित गिलगित-बाल्टिस्तान (Gilgit Baltistan) समेत केंद्र शासित प्रदेश जम्मू कश्मीर और लद्दाख भारत का अभिन्न अंग हैं.

ये भी पढ़ें: आरक्षण के नाम पर गुर्जरों का हंगामा, रेल की पटरियां उखाड़ रहे प्रदर्शनकारी… दिल्ली-मुंबई रूट जाम

उन्होंने कहा कि पाकिस्तान सरकार का अवैध और जबरन कब्जाए गए इन क्षेत्रों पर कोई अधिकार नहीं है और इस नए कदम से पाकिस्तान के कब्जे वाले इन क्षेत्रों में मानवाधिकार के घोर उल्लंघन को छिपाया नहीं जा सकेगा.

पाकिस्तान की हरकत नहीं छुपा सकती उसकी कारगुजारी

श्रीवास्तव ने कहा, अवैध कब्जे को छिपाने के लिये पाकिस्तान की तरफ से किये जा रहे ऐसे उल्टे-सीधे कामों से पाकिस्तान के कब्जे वाले इन क्षेत्रों में रह रहे लोगों के साथ सात दशकों से हो रहे मानवाधिकारों के उल्लंघन और आजादी से उन्हें वंचित रखे जाने को छिपा नहीं पाएंगे.

उन्होंने कहा, इन भारतीय क्षेत्रों का दर्जा बदलने के प्रयास के बजाए हम पाकिस्तान से तत्काल अवैध कब्जे को छोड़ने की मांग करते हैं. पाकिस्तान ने इस महीने के अंत में गिलगित-बाल्टिस्तान (Gilgit Baltistan) में विधानसभा के लिये चुनाव कराने की घोषणा की है.