फिल्म मेकर सुभाष घई की मंदिरों से अपील, देश की भलाई के लिए दान करें अपना 90% सोना

0
2371
Subhash Ghai
फिल्ममेकर सुभाष घई ने देश के मंदिरों से अपना सोना दान करने की अपील की है (तस्वीर साभार - गूूगल)

नई दिल्ली. कोरोना वायरस की वजह से गरीब और मजदूरों को बड़ी मुश्किल से अपना जीवन यापन करना पड़ रहा है. इस मुश्किल समय में हर कोई मदद को आगे आ रहा है. सरकार के साथ-साथ सेलिब्रिटीज और आम भारतीय भी अपनी क्षमता के अनुरूप मदद कर रहा है. इस बीच फिल्म मेकर सुभाष घई ने देश के मंदिरों से जनकल्याण के लिए 90 प्रतिशत सोना दान करने की अपील की है.

सुभाष घई ने ट्विटर पर एक ट्वीट के जरिए सवाल उठाया है कि इस मुश्किल समय में मंदिर अपना सोना दान क्यों नहीं कर देते? उन्होंने ट्विटर पर लिखा- क्या भगवान के मंदिर जाने का ये ठीक समय नहीं है. जितने भी अमीर मंदिर हैं और जिनके पास काफी सोना है, उन्हें खुद आगे आकर सरकार को अपना 90 प्रतिशत सोना सरेंडर कर देना चाहिए, जिससे उन गरीबों की मदद हो सके जो मुश्किल में है. मंदिर को भी तो ये सब लोगों ने भगवान के नाम पर दिया है.

ट्रोल हुए सुभाष घई

इस ट्वीट के बाद सुभाष घई सोशल मीडिया पर ट्रोल हो गए. कई लोग जहां उनके समर्थन में दिखे, तो कई उनके विरोध में दिखे. किसी ने सुभाष घई से खुद डोनेशन करने को कहा है, तो किसी ने उनकी धर्मनिरपेक्षता पर सवाल उठा दिए.

एक यूजर ने लिखा, आप देश को बांटने की कोशिश क्यों कर रहे हैं? मंदिर, मस्जिद, चर्च, गुरुद्वारा यह लोगों को शांति देने के लिए बने हैं. इनके नाम पर राजनीति करने की क्या जरूरत है. एक अन्य शख्स ने लिखा, सिर्फ मंदिर ही क्यों, दूसरे धार्मिक संस्थानों से भी अपील कीजिए. क्यों ना बॉलीवुड की 90 प्रतिशत दौलत पहले दान कर दें. यह पैसा भी तो देश की जनता से ही मिलता है.

ये पूरा विवाद कांग्रेस नेता और महाराष्ट्र के पूर्व सीएम पृथ्वीराज चव्हाण के एक ट्वीट से शुरू हुआ था. चव्हाण ने दो दिन पहले ट्विटर पर सरकार से सभी धार्मिक ट्रस्टों के पास पड़े सोने का तुरंत इस्तेमाल करने की अपील की थी. इस ट्वीट के बाद से बीजेपी और कांग्रेस के बीच जुबानी जंग जारी थी.