कोरोना वैक्सीन बनाने वाला देश बनेगा हिन्दुस्तान, सरकार वितरण की रणनीति बनाए: राहुल गांधी

नई दिल्ली। भारत दुनिया के उन चुनिंदा देशों में शामिल है, जो इस वक्त कोरोना वायरस वैक्सीन बनाने पर काम कर रहा है। इन सबके बीच कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने शुक्रवार को केंद्र सरकार से कोरोना वैक्सीन के लिए एक सही रणनीति बनाने की अपील की है।

राहुल ने कहा है कि सरकार को इस वैक्सीन के इस्तेमाल, इसके वितरण की व्यवस्था पर अभी से काम करना चाहिए।

सही रणनीति जरूरी

कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने अपने ट्वीट में लिखा कि भारत कोरोना वायरस वैक्सीन बनाने वाले देशों में एक होगा, ऐसे में एक सही रणनीति की जरूरत है ताकि वैक्सीन की उपलब्धता, कीमत और वितरण पर काम किया जा सके। भारत सरकार को तुरंत इसपर काम करना चाहिए।

देश में इस वक्त भारत बायोटेक के तहत कुल 12 सेंटर पर कोरोना वायरस वैक्सीन का ट्रायल चल रहा है। कुछ जगह पहला फेज पूरा हो गया है और सितंबर के पहले हफ्ते से दूसरा फेज शुरू हो जाएगा। भारत उन देशों में शामिल है जो ह्यूमन ट्रायल की स्टेज को पार करने की ओर है।

दस करोड़ डोज बनाने की तैयारी

देश में सीरम इंस्टीट्यूट की ओर से बड़ी मात्रा में वैक्सीन की डोज़ बनाने पर काम किया जा रहा है। बीते दिनों दावा किया गया था कि वैक्सीन बनने तक इसकी दस करोड़ डोज़ तैयार कर ली जाएंगी। साथ ही इसकी कीमत भी काफी कम रखी जाएगी ताकि हर व्यक्ति को इसका फायदा मिल सके।

लालकिले से कोरोना संकट पर बात कर सकते हैं पीएम मोदी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी बीते दिनों एक बैठक की थी, जिसमें देश में जारी वैक्सीन के काम की समीक्षा की थी। 15 अगस्त को लालकिले की प्राचीर से प्रधानमंत्री कोरोना संकट को लेकर बात रख सकते हैं, जिसमें वैक्सीन का भी जिक्र हो सकता है।

रूस की दवा पर उठ रहे सवाल

दुनिया में अभी रूस ने दावा किया है कि उसने कोरोना वायरस की सफल वैक्सीन बना ली है। हालांकि उसके दावों में कई तरह की शंकाएं पैदा हो रही हैं। विश्व स्वास्थ्य संगठन के मुताबिक, दुनिया में इस वक्त कोरोना वायरस की करीब सौ से अधिक वैक्सीन पर ट्रायल चल रहा है। जिनमें अमेरिका, भारत, चीन, रूस, इजरायल, ब्रिटेन जैसे देश शामिल हैं।