आज से लगेगी कोरोना की बूस्टर डोज, जानिए किस-किस को लगेगा कोरोना का तीसरा कवच

नई दिल्ली। भारत में कोरोना का ओमिक्रॉन वेरिएंट बहुत तेजी से फैल रहा है। इसके साथ ही कोरोना के मामलों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है।

तीसरी लहर में मामलों में जबरदस्त तेजी के बाद बूस्टर डोज देने की तैयारी कर ली गई है। आज से स्वास्थ्यकर्मियों और 60+ जिन्हें कोई गंभीर बीमारी है, उनको वैक्सीन की तीसरी डोज दी जाएगी।

कौन सी वैक्सीन लगेगी?

भारत सरकार ने स्पष्ट कर दिया है कि जो भी लोग बूस्टर डोज लगवाने जा रहे हैं, उन्हें वहीं वैक्सीन दी जाएगी जिसकी पहली दो खुराक उन्हें मिल चुकी है। मतलब अगर आपको कोविशील्ड वैक्सीन की दोनों डोज लगी हैं तो बूस्टर भी कोविशील्ड की ही लगने वाली है।

क्या फिर रेजिस्ट्रेशन करवाना पड़ेगा?

स्वास्थ्य मंत्रालय की तरफ से जानकारी दी गई है कि बूस्टर डोज या फिर प्रीकॉशन डोज लगवाने वाले लोगों को दोबारा रेजिस्ट्रेशन करवाने की जरूरत नहीं पड़ेगी। उनके पास दो ऑप्शन रहने वाले हैं। पहला या तो वह Cowin ऐप पर अप्वाइंटमेंट ले सकते हैं। ऐप पर थर्ड डोज को लेकर एक अलग फीचर भी जोड़ दिया गया है। दूसरा ऑप्शन ये है कि आप सीधे वैक्सीनेशन सेंटर जाकर भी टीका लगवा सकते हैं। वहां भी दोबारा रेजिस्ट्रेशन की जरूरत नहीं पड़ने वाली है।

कितने समय बाद लगेगी बूस्टर डोज?

अगर आपको कोरोना वैक्सीन की दूसरी डोज 9 महीने पहले लगी है, तो आप तीसरी डोज लगवा सकते हैं। अगर 9 महीने से कम हुआ है तो बूस्टर डोज अभी नहीं लगेगी।

क्या वैक्सीनेशन सेंटर पर कोई सर्टिफिकेट दिखाना पड़ेगा?

अगर आपकी उम्र 60 प्लस है और आप दूसरी बीमारियों से भी ग्रसित हैं तो आपको बिना किसी रेजिस्ट्रेशन या सर्टिफिकेट के वैक्सीन लग जाएगी। हालांकि, स्वास्थ्य मंत्रालय ने ये जरूर कहा है कि तीसरी डोज लेने से पहले डॉक्टर से सलाह ली जा सकती है।

बूस्टर डोज के बाद वैक्सीन सर्टिफिकेट मिलेगा?

हां, अगर आपको वैक्सीन की तीसरी डोज लगी है तो हमेशा की तरह एक सर्टिफिकेट आपको रजिस्टर्ड मोबाइल फोन पर दिया जाएगा। उसमें तारीख से लेकर दूसरी जरूरी जानकारी मौजूद रहेगी।

क्या हेल्थ केयर वर्कर्स के परिवार को भी बूस्टर लग सकती है?

नहीं, सिर्फ उन फ्रंटलाइन और हेल्थ केयर वर्कर्स को बूस्टर या फिर प्रीकॉशन डोज दी जाएगी जो सक्रिय रूप से कोरोना काल में अस्पतालों में या फिर बाहर अपनी ड्यूटी दे रहे हैं। बता दें कि फ्रंटलाइन वर्कर्स के अंदर स्वास्थ्यकर्मी, पुलिसकर्मी और अन्य सरकारी कर्मचारी शामिल हैं।

Leave comment

Your email address will not be published. Required fields are marked with *.