Corona test के नाम पर दर-दर भटकती रही महिला, अस्पताल के आंगन में दिया बच्चे को जन्म

0
184
Corona test के नाम पर दर-दर भटकती रही महिला, अस्पताल के आंगन में दिया बच्चे को जन्म
(Image Courtesy: Google)

आरा: बिहार में कोरोना (Corona test) जांच के नाम पर प्रशासन की लापरवाही आम लोगों पर बहुत भारी पड़ रही है. आरा में कुछ ऐसा ही एक मामला सामने आया है. दरअसल, यहां एक गर्भवती महिला पहले तो घंटों जाम में फंसी रही. उसके बाद जब डिलीवरी के लिए महिला को आरा सदर अस्पताल लाया गया तो वहां लचर सिस्टम की वजह से अस्पताल के प्रांगण में महिला ने बच्चे को जन्म दे दिया.

बताया जा रहा है कि अस्पताल पहुंचने के बाद अस्पताल प्रशासन ने परिजनों को कोरोना जांच (Corona Test) के नाम पर इधर-उधर भटकाया और अस्पताल में दाखिल नहीं किया. जिसके बाद महिला ने इमरजेंसी वार्ड के बाहर ही शिशु को जन्म दे दिया.

बच्चे का जन्म होने के बाद किया भर्ती

बच्चे के जन्म होने की खबर जैसे ही प्रसूति वार्ड की नर्स और डॉक्टरों को लगी. उन्होंने तुरंत इमरजेंसी के बाहर से प्रसूता को ले जाकर प्रसूति वार्ड में भर्ती कराया दिया. उस समय अस्पताल परिसर में कुछ देर के लिए हड़कंप सा मच गया.

प्रसूता रूबी देवी के पति अजय कुमार ने बताया कि दोपहर में घर पर डिलीवरी का दर्द शुरू हुआ था. इसके बाद अस्पताल लाते समय उन्हें जाम में फंसना पड़ा. जिससे अस्पताल लाने में देरी हो गई. काफी मशक्कत के बाद वे अस्पताल पहुंचे तो वहां सबसे पहले कोरोना जांच (Corona Test) कराने की बात कही गई. हम लोग जैसे ही उसे जांच के ले जा रहे थे. तभी उसे काफी दर्द होने लगा और उसने इमरजेंसी परिसर में ही बच्चे को जन्म दे दिया.

सिस्टम की लापरवाही पर अधिकारियों ने साधी चुप्पी

टीवी चैनल आजतक की एक रिपोर्ट के अनुसार, Corona Test के नाम पर अस्पताल के सिस्टम में लापरवाही की बात जब अस्पताल के अधिकारियों से पूछी गई तो उन्होंने कैमरे पर बोलने से साफ मना कर दिया. बहरहाल इस तरह का मामला शहर के लिए कोई नई बात नहीं है. यहां के लोगों के लिए अब जाम और लापरवाही मानो नियति बन गई है.

ये भी पढ़ें : UP में निकाली बंपर सरकारी नौकरियां, 5वीं पास को भी मिलेगी 57 हजार तक सैलरी

सदर अस्पताल के प्रभारी डीएस डॉ प्रतिक ने कहा कि पेशेंट लेट से अस्पताल पहुंची थी, फिर भी सदर अस्पताल के स्टॉफ के द्वारा त्वरित कार्यवाही करते हुए मरीज को सहायता दी प्रदान की गई है. इस घटना में प्रथम दृष्टया लापरवाही प्रतीत नहीं हो रही है फिर भी परिजन के द्वारा अगर किसी तरह की लिखित शिकायत दी जा रही है तो उस पर जांच की जाएगी.