चिट्ठी विवाद के बाद Congress में बड़ा फेरबदल, आजाद से छिना महासचिव का पद, सुरजेवाला का प्रमोशन

नई दिल्ली. कांग्रेस (Congress) में चल रही अंदरूनी खींचतान के बाद कांग्रेस में शुक्रवार को बड़ा संगठनात्मक फेरबदल किया है. चिट्ठी विवाद के बाद गुलाम नबी आजाद (Gulam Nabi Azad) से महासचिव का पद छीन लिया गया है. वह साथ ही हरियाणा राज्य के प्रभारी थे. इस फेरबदल का सबसे बड़ा फायदा राहुल गांधी के करीबी रणदीप सिंह सुरजेवाला (Randeep singh Surjewala) को हुआ है.

सुरजेवाला अब कांग्रेस अध्यक्ष को सलाह देने वाली उच्च स्तरीय छह सदस्यीय विशेष समिति का हिस्सा हैं.

Randeep Singh Surjewala का बढ़ा कद

इसके साथ ही सुरजेवाला को कांग्रेस का महासचिव भी बनाया गया है. उन्हें कर्नाटक का प्रभारी बनाया गया है. मधुसूदन मिस्त्री को केंद्रीय चुनाव समिति का अध्यक्ष बनाया गया है. प्रियंका गांधी को यूपी का प्रभारी बनाया गया है. इसके अलावा केसी वेणुगोपाल को संगठन की जिम्मेदारी दी गई है.

ये भी पढ़ें : कंगना के समर्थन में उद्धव सरकार पर बरसी Sadhvi Prachi, कहा-महाराष्ट्र में तुरंत लगे राष्ट्रपति शासन, नहीं तो…

कांग्रेस महासचिवों में मुकुल वासनिक को मध्य प्रदेश की, हरीश रावत को पंजाब की, ओमान चांडी को आंध्र प्रदेश की, तारीक अनवर को केरल और लक्षद्वीप की, जितेंद्र सिंह को असम की, अजय माकन को राजस्थान की जिम्मेदारी दी गई है.

Congress में हुए बड़े बदलाव

इसके अलावा जितिन प्रसाद को Congress ने पश्चिम बंगाल, अंडमान और निकोबार द्वीप समूह का प्रभारी बनाया है. संगठन में यह उनके लिए बड़ी उछाल मानी जा रही है. बता दें कि विवादास्पद चिट्ठी पर दस्तखत करने वाले नेताओं में जितिन प्रसाद भी थे.

ताजा बदलाव के बाद पवन कुमार बंसल सचिव प्रभारी प्रशासन होंगे. इसके अलावा राहुल के वफादार मनकीम टैगोर को तेलंगाना का प्रभारी सचिव नियुक्त किया गया है. नए सीडब्ल्यूसी सदस्य के तौर पर दिग्विजय सिंह, राजीव शुक्ला, मनिकम टैगोर, प्रमोद तिवारी, जयराम रमेश, एचके पाटिल, सलमान खुर्शीद, पवन बंसल, दिनेश कुंदुरो, मनीष चतरथ और कुलजीत नागरा की एंट्री हुई है.