चीन के गलवान वाले प्रॉपगैंडा वीडियो की खुली पोल, इस्तेमाल किए थे फिल्मी कलाकार

नई दिल्ली: चीन ने नए साल के मौके पर गलवान में झंडा फहराने का एक फर्जी वीडियो जारी किया था। इस वीडियो की शूटिंग में चीनी सैनिक नहीं, बल्कि फिल्मी कलाकारों का इस्तेमाल किया गया था।

यह दावा एक अंतरराष्ट्रीय वेब पोर्टल कार्बुन ट्रेसी ने किया है। पोर्ट की रिपोर्ट में यह भी बताया गया है कि यह पूरी शूटिंग गलवान से करीब 28 किलोमीटर पीछे अक्साई चिन के इलाके में की गई थी।

वेब पोर्टल ने चीन की सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म वीवी यूजर्स के हवाले से दावा है कि इस वीडियो में दिखाई दे रहा एक सैनिक चीन का फिल्मी कलाकार वू जांग है। इस वीडियो में उसकी पत्नी शी नान भी शामिल थी। इस वीडियो को गलवान नदी से 28 किलोमीटर दूर अक्साई चिन के इलाके में करीब चार घंटे की मशक्कत के बाद फिल्माया गया था।

चीन के फिल्मी कलाकार है वू जांग

वू जांग चीन के प्रसिद्ध फिल्मी कलाकार हैं और उन्होंने कई चीनी फिल्मों में पीएलए सैनिक का रोल निभाया है। इसमें द बैटल एट लेक चांगजिन भी शामिल है, जो चीन में बनी सबसे महंगी फिल्म है। उनकी पत्नी शी नान 2007 की एक ड्रामा सीरीज जियान जिंग तियान जिया से प्रसिद्धि पाई थी। वह चीनी प्रोग्राम में टीवी होस्ट भी हैं।

पोर्टल ने यह दावा कई चीनी नागरिकों के वीवो पर गलवान में शूट झंडे वाले वीडियो पर सवाल उठाने के बाद किया है। यूजर्स ने ही इस वीडियो में फिल्मी कलाकारों के इस्तेमाल का खुलासा किया था। लेकिन, जैसे ही मामले ने तुल पकड़ा चीनी मीडिया ने ऐसे सभी अकाउंट्स को तुरंत ब्लॉक कर दिया। कुछ वीवो यूजर्स के अनुसार, 24 दिसंबर को वू जांग, शई नान, कुछ जूनियर एक्टर्स और पीएलए अधिकारी प्रॉपगैंडा वीडियो शूट करने के लिए अक्साई चिन के लोकेशन पर गए थे।

चार घंटे की मशक्कत के बाद शूट किया वीडियो

उन्होंने चार घंटे की कड़ी मशक्कत के बाद इस वीडियो को शूट किया। इस वीडियो को चीनी पत्रकार शेन शिवेई और सीसीपी के मुखपत्र ग्लोबल टाइम्स ने गलवान घाटी का बताते हुए शेयर किया था। 40-45 सेकेंड की क्लिप में चीनी सैनिक एक पहाड़ी के किनारे चीनी झंडा फहराते दिखाई दिए। इस वीडियो की भारत में भी खूब चर्चा हुई। कई विपक्षी नेताओं ने इस वीडियो को लेकर सरकार पर निशाना भी साधा था।