PM मोदी के तेवर देख चालबाज ड्रैगन की बोलती बंद, कहा-शांति और समृद्धि के हित में है चीन

नई दिल्ली। लाल किले की प्राचीर से 74वें स्वतंत्रता दिवस पर राष्ट्र को संबोधित करते हुए PM मोदी ने चीन और पाकिस्तान को कड़ा संदेश दिया। PM मोदी ने कहा था कि एलओसी से एलएसी तक देश की संप्रभुता को चुनौती देने वालों को सेना मुंहतोड़ जवाब देगी। मोदी सरकार के इस रवैये ने चीन के सुर बदल दिए हैं।

चीन ने अपने रुख में बदलाव करते हुए कहा कि वह आपसी राजनीतिक भरोसा बढ़ाने, अपने मतभेदों को उचित तरीके से सुलझाने और द्विपक्षीय संबंधों की रक्षा के लिए भारत के साथ मिलकर काम करने को तैयार है। चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता झाओ लिजियान ने नियमित संवाददाता सम्मेलन में यह टिप्पणी की।

पीएम मोदी के बयान पर दी प्रतिक्रिया

दरअसल, झाओ से एक विदेशी पत्रकार ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के उस बयान पर चीन की प्रतिक्रिया मांगी, जिसमें उन्होंने कहा था कि भारतीय सैनिकों ने देश की संप्रभुता को चुनौती देने वालों को मुंहतोड़ जवाब दिया। PM मोदी ने कहा था, ‘एलओसी (नियंत्रण रेखा) से एलएसी (वास्तविक नियंत्रण रेखा) तक देश की संप्रभुता पर जिस किसी ने आंख उठाई उसे उसकी ही भाषा में जवाब दिया गया।’

शांति और समृद्धि के हित में भी है चीन

चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता झाओ ने कहा, ‘हमने PM मोदी के संबोधन का संज्ञान लिया है। हम करीबी पड़ोसी हैं, एक अरब से ज्यादा आबादी के साथ हम उभरते हुए देश हैं। इसलिए द्विपक्षीय संबंधों की प्रगति ना केवल दोनों देशों के लोगों के हित में है बल्कि यह क्षेत्र और समूचे विश्व की स्थिरता, शांति और समृद्धि के हित में भी है।

भारत के साथ मिलकर काम करने को तैयार है चीन

झाओ ने कहा, ‘दोनों पक्षों के लिए सही रास्ता एक दूसरे का सम्मान और समर्थन करना है क्योंकि यह हमारे दीर्घकालिक हितों को पूरा करता है।’ प्रवक्ता ने कहा, ‘इसलिए चीन आपसी राजनीतिक भरोसा बढ़ाने, मतभेदों को उचित तरीके से सुलझाने और व्यावहारिक सहयोग तथा दीर्घावधि में द्विपक्षीय संबंधों के हितों की रक्षा के लिए भारत के साथ मिलकर काम करने को तैयार है।’