Babri Case: मिलिए CBI Judge Surendra Kumar Yadav से जिन्होंने 28 साल बाद सुनाया ऐतिहासिक फैसला

0
623
Babri Case: मिलिए CBI Judge Surendra Kumar Yadav से जिन्होंने 28 साल बाद सुनाया ऐतिहासिक फैसला
(Image Courtesy: Google)

Babri Case. बाबरी केस में 28 साल बाद आखिरकार फैसला आ गया है. सीबीआई के स्‍पेशल जज सुरेन्‍द्र कुमार यादव (CBI Judge Surendra Kumar Yadav) ने इस मामले में सभी आरोपियों को बरी कर दिया है. इस केस के साथ ही सीबीआई के स्पेशल जज सुरेंद्र कुमार यादव आज शाम रिटायर हो जाएंगे. स्पेशल जज सुरेंद्र कुमार के कार्यकाल का आज अंतिम दिन है.

बता दें कि सीबीआई के स्पेशल जज सुरेंद्र कुमार (CBI Judge Surendra Kumar Yadav) ने इस केस में फैसला सुनाते हुए कहा कि बाबरी की घटना पूर्व नियोजित नहीं थी. आज शाम पांच बजे जज सुरेंद्र कुमार सेवानिवृत्त हो जाएंगे.

दुनिया भर की टिकी निगाहें

यह संयोग ही है कि जज सुरेंद्र कुमार (CBI Judge Surendra Kumar Yadav) अपने कार्यकाल के अंतिम दिन ऐसे मामले में फैसला सुनाया, जिस पर पूरी दुनिया की निगाहें टिकी थी. बाबरी केस में उन्‍हें देश के कई बड़े नेताओं की किस्‍मत का फैसला कर दिया है. वैसे, विशेष जज सुरेन्‍द्र कुमार (CBI Judge Surendra Kumar Yadav) को पिछले साल ही रिटायर हो जाना था, लेकिन इस मामले की सुनवाई के चलते उन्‍हें एक साल का सेवा विस्‍तार दिया गया. आज मामले में फैसला सुनाने के साथ वह रिटायर हो गए हैं.

28 साल पुराना है केस

अयोध्या में बाबरी मस्जिद के 28 साल पुराने मामले में लाल कृष्ण आडवाणी, मुरली मनोहर जोशी, उमा भारती, नृत्य गोपाल दास, कल्याण सिंह समेत 49 आरोपी बनाए गए थे. इनमें से 17 लोगों की मौत हो चुकी है. लगभग 50 गवाह भी दुनिया से विदा हो चुके हैं.

ये भी पढ़ें : Babri Verdict: आडवाणी, जोशी, उमा समेत सभी आरोपी बरी, जज-बोले पूर्व नियोजित नहीं थी घटना

सीबीआई की अदालत ने एक सितंबर तक मामले की सुनवाई पूरी कर ली थी. दो सितंबर से फैसला लिखने का काम शुरू हो गया था. पूरी दुनिया की निगाह लखनऊ की विशेष सीबीआई कोर्ट (CBI Judge Surendra Kumar Yadav) के इस आने वाले फैसले पर लगी थी.

अयोध्या में हाई अलर्ट

इसी बीच अयोध्या में विवादित बाबरी केस पर फैसले को देखते हुए पूरे उत्तर प्रदेश में हाई अलर्ट पहले ही जारी किया जा चुका है. सभी संवेदनशील जिलों में सुरक्षा प्रबंध और मजूबत करने के लिए अतिरिक्त रूप से 70 कंपनी पीएसी की तैनाती की गई है. जिलों के पुलिस कप्तानों को सेक्टर व्यवस्था लागू करके सुरक्षा प्रबंध करने के निर्देश दिए गए हैं.