Bihar elections 2020: कोरोना काल में पहली बार हो रही वोटिंग, बिहार चुनाव में दिख रहे ये बड़े बदलाव

पटना. कोरोना वायरस ने आम आदमी की जिंदगी को काफी बदल दिया है. कोरोना काल में बिहार में विधानसभा (Bihar elections 2020) चुनाव हो रहे हैं. बिहार चुनाव (Bihar elections 2020) के पहले चरण को लेकर आज 16 जिलों के 71 विधानसभा सीटों पर वोटिंग जारी है. कोरोना के बावजूद बिहार की जनता में वोटिंग को लेकर काफी उत्साह नजर आ रहा है.

कोरोना की वजह से वोटिंग के तौर-तरीकों को थोड़ा बदल जरूर दिया है, लेकिन लोगों के उत्साह उससे भी ज्यादा है.

Bihar elections 2020: चुनाव आयोग की खास तैयारी

सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए लोग बूथों पर अपनी बारी का इंतजार करते हुए नजर आ रहे हैं. संक्रमण फैलने की आशंका के बावजूद लोग वोट डालने के लिए घरों से बाहर निकल रहे हैं. वहीं वोटरों की सुरक्षा को देखते हुए चुनाव आयोग ने खास तैयारी है.

कोरोना के इस दौर में लोगों और चुनाव कर्मियों को संक्रमण से बचाने के लिए ने पीपीई किट की व्यवस्था की है. पोलिंग बूथ पर उस वोटर को ही एंट्री दी जा रही है, जिन्होंने मास्क पहना है. वोट डालने से पहले चुनाव कर्मी हर व्यक्ति के शरीर का तापमान माप रहे है और हाथों को सैनिटाइज करवाया जा रहा है.

चुनाव अधिकारियों और वोटरों का रखा जा रहा खास ख्याल

बिहार चुनाव (Bihar elections 2020) में चुनाव कर्मियों को भी संक्रमण से बचाने के लिए चुनाव आयोग ने उनके लिए पीपीई किट की व्यवस्था की है. पीपीई किट पहनकर चुनावकर्मी ड्यूटी कर रहे हैं. संक्रमण फैलने की आशंका को देखते हुए इस बार बिहार विधानसभा चुनाव (Bihar elections 2020) में आयोग ने बूथों पर मतदाताओं की संख्या कम रखने की व्यवस्था की है. इसके लिए बूथों की संख्या बढ़ाई गई है. एक बूथ पर अधिकतम 1000 मतदाता ही होंगे. पहले यह सीमा 1500 मतदाताओं की थी.

कोरोना काल में चुनाव के दौरान बिहार चुनाव (Bihar elections 2020) में दिव्यांगों, 80 साल से अधिक उम्र के बुजुर्गों, जरूरी सेवाओं में जुटे कर्मचारियों और कोरोना संक्रमितों के अलावा संभावित लोगों को पोस्टल बैलेट से मतदान की सुविधा दी गई है.

ये भी पढ़ें: धर्म बदलने के बाद दूसरी शादी करने जा रहे हैं Harish Salve, जानिए कौन है उनकी दुल्हन

लोगों को वोटिंग के लिए कतार में ज्यादा इंतजार ना करना पड़े इसके लिए चुनाव आयोग ने पहले आओ पहले पाओ की तर्ज पर टोकन देने की व्यवस्था की है ताकि भीड़ कम से कम हो. दो मतदाताओं के बीच 6 फीट की दूरी को अनिवार्य बनाया गया है.