कोरोनिल विवाद पर बोले बाबा रामदेव, हमें देशद्रोही साबित करना चाहती थी कुछ दवा कंपनियां

कोरोनिल विवाद: कोरोनिल दवा को लेकर चल रहे विवाद के बीच योग गुरु बाबा रामदेव ने मीडिया के सामने अपना पक्ष रखा. स्वामी रामदेव ने कहा कि जानबूझकर मेरे खिलाफ गलत प्रचार किया गया और एक तरह से बवंडर मचा दिया.

स्वामी रामदेव ने आरोप लगाया कि कुछ लोगों ने मेरी जात और धर्म को लेकर के गंदा वातावरण बनाने की कोशिश की, जैसे किसी देशद्रोही के खिलाफ. फिर मेरे खिलाफ देशभर में एफआईआर दर्ज की गईं. ये मानसिकता हमें कहां लेकर जाएगी.

बाबा रामदेव ने दी सफाई

रामदेव ने कहा, “हमने पूरे ट्रायल में देखा कि सबसे बड़ा खतरा होता है जब कोरोना शरीर में लंग्स में घर बना लेता है और वायरस शरीर में लाखों कॉपी तैयार कर लेता है. हमने देखा की दवा से बहुत अच्छा रिस्पांस मिला. पूरा साइंटिफिक डॉक्यूमेंटेशन है. जो प्रोटोकॉल्स तय किए गए हैं, उसके मुताबिक हमने रिसर्च किया है.”

ये भी पढ़ें : बड़ी खबर: पूर्व अटॉनी जनरल मुकुल रोहतगी ने किया सुप्रीम कोर्ट में टिकटॉक की पैरवी करने से इंकार

उन्होंने आगे कहा, “अभी कोरोना के ऊपर क्लीनिकल ट्रायल हुआ है. वैसे ही 10 से बड़ी बीमारी के 3 लेवल के ट्रायल हम पार कर चुके हैं. हमारे पास 500 वैज्ञानिकों की टीम है. एक कोरोना ट्रायल का रिजल्ट क्या रखा, तूफान सा आ गया. ये टाई शाय पहनने वाले मानने को तैयार नहीं हुए कि लंगोट पहनने वाला ये कैसे कर सकता है? उन्हीं के रिसर्च पैरामीटर्स के मुताबिक हमने ये कार्य आगे बढ़ाया है और आगे बढ़ना है.”