किसानों के लिए अनशन पर बैठे Anna Hazare, कहा-सरकार सिर्फ आश्वासन देती है, मांगे पूरी नहीं करती

नई दिल्ली. मोदी सरकार के कृषि कानूनों को लेकर देश के अन्नदाता सड़कों पर है. इस बीच किसानों को सामाजिक कार्यकर्ता अन्ना हजारे (Anna Hazare) का समर्थन मिल गया है. भारत बंद के बीच अन्ना हजारे (Anna Hazare) आज एक दिन के अनशन पर बैठ गए हैं.

अन्ना हजारे (Anna Hazare)ने कहा कि देश में आंदोलन होना चाहिए, ताकि सरकार पर दबाव बने और वह किसानों के हित में कदम उठाए.

किसानों को सड़कों पर उतरना होगा

अन्ना हजारे (Anna Hazare) ने एक संदेश में कहा कि मैं देश के लोगों से अपील करता हूं, दिल्ली में जो आंदोलन चल रहा है, वह पूरे देश में चलना चाहिए. सरकार पर दबाव बनाने के लिए ऐसी स्थिति बनाने की जरूरत है और इसके लिए किसानों को सड़कों पर उतरना होगा. लेकिन कोई हिं सा ना करें.

ये भी पढ़ें: CM अरविंद केजरीवाल को दिल्ली पुलिस ने किया नजरबंद, AAP ने लगाए बीजेपी पर बड़े आरोप

अन्ना हजारे (Anna Hazare) महाराष्ट्र के अहमदनगर जिले के रालेगण सिद्धि गांव में अनशन पर बैठे हैं. उन्होंने कहा कि किसानों के लिए सड़कों पर आने और अपना मुद्दा हल कराने का यह ”सही समय” है.

सरकार को दी आंदोलन की चेतावनी

सामाजिक कार्यकर्ता अन्ना हजारे (Anna Hazare) ने कहा कि मैंने पहले भी इस मुद्दे का समर्थन किया है और आगे भी करता रहूंगा. उन्होंने कृषि लागत एवं मूल्य आयोग (सीएसीपी) को स्वायत्तता देने और एमएस स्वामीनाथन आयोग की सिफारिशों को लागू करने की आवश्यकता पर भी जोर दिया.

अन्ना हजारे (Anna Hazare) ने सरकार को सीएसीपी को स्वायत्तता नहीं देने और स्वामीनाथन आयोग की सिफारिशें ना लागू करने पर आंदोलन की चेतावनी भी दी. उन्होंने कहा कि सरकार सिर्फ आश्वासन देती है, कभी मांगें पूरी नहीं करती.