AIIMS Nursing Union Strike : एम्स के 5000 से ज्यादा नर्सिंग कर्मचारी अनिश्चितकालीन हड़ताल पर, बढ़ी मरीजों की परेशानी

0
251
AIIMS Nursing Union Strike : एम्स के 5000 से ज्यादा नर्सिंग कर्मचारी अनिश्चितकालीन हड़ताल पर, बढ़ी मरीजों की परेशानी
(Image Courtesy: Google)

AIIMS Nursing Union Strike. देश के सबसे बड़े सरकारी अस्पताल अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (AIIMS) में नर्स यूनियन अनिश्चितकालीन हड़ताल (AIIMS Nursing Union Strike) पर चली गई हैं. नर्स यूनियन का कहना है कि एम्स प्रशासन उनकी लंबित मांगों को नहीं मान रहा है. ऐसे में हड़ताल पर जाने के अलावा उनके पास और कोई रास्ता नहीं है.

नर्सों की हड़ताल (AIIMS Nursing Union Strike) के कारण एम्स में भर्ती मरीजों को बड़ी तकलीफों का सामना करना पड़ रहा है. दूसरी तरफ स्वास्थ्य मंत्रालय ने साफ कह दिया है कि हाईकोर्ट के निर्देश नहीं मानने वालों पर सख्त कार्रवाई की जाएगी.

महीने भर से लंबित हैं मांगे

एम्स नर्सिंग यूनियन (AIIMS Nursing Union) के प्रेजिडेंट हरीश कुमार काजला ने बताया कि वह इस तरह हड़ताल पर नहीं जाना चाहते थे. लेकिन 1 महीना बीत जाने के बाद भी सरकार और एम्स प्रशासन ने उनकी मांगों को अनसुना कर दिया.

इसी वजह से एम्स नर्सिंग यूनियन ने 16 दिसंबर से शुरू होने वाली हड़ताल (AIIMS Nursing Union Strike) आज ही शुरू कर दी है. काजला ने चेतावनी दी कि जब तक उनकी मांगें मानी नहीं जाएंगी, तब तक हड़ताल जारी रहेगी.

5 हजार नर्सिंग स्टाफ तैनात हैं

नर्स यूनियन के अनिश्चितकालीन हड़ताल (AIIMS Nursing Union Strike) पर जाने से अस्पताल में भर्ती किए गए मरीजों की परेशानी बढ़ गई है. मौजूदा समय में एम्स में करीब 5 हजार नर्सिंग स्टाफ तैनात है.

इनमें महिला और पुरुष नर्स दोनों शामिल हैं. यही स्टाफ एम्स में भर्ती होने वाले सैकड़ों मरीजों की देखभाल करता है. ऐसे में उनके अचानक हड़ताल पर चले जाने से एम्स प्रशासन के लिए हालात संभालने में मुश्किलें हो सकती हैं.

क्या बोले एम्स निदेशक

एम्स के निदेशक डॉ. रणदीप गुलेरिया ने नर्स यूनियन की हड़ताल (AIIMS Nursing Union Strike) को दुर्भाग्यपूर्ण बताया है. उन्‍होंने कहा कि महामारी के इस दौर में सच्चे नर्सिंग कर्मचारी हड़ताल नहीं कर सकते.

डॉ. रणदीप गुलेरिया ने कहा कि नर्सों की मुख्यतः 23 मांगें हैं. इनमें से अधिकतर सरकार और एम्स प्रशासन ने मान ली हैं. फिर भी नर्सिंग यूनियन हड़ताल पर चली गई, इससे मरीजों को देखभाल में दिक्कत हो सकती है. उन्होंने नर्सिंग यूनियन को हड़ताल खत्म कर काम पर लौटने की अपील की है. लेकिन यूनियन पर उनकी इस अपील का कोई असर होता हुआ दिखाई नहीं दे रहा है. वे अब भी अपनी मांगों को लेकर अड़े हुए हैं.

ये भी पढ़ें: कंगना ने दिलजीत को कहा ‘लोकल क्रांतिकारी’, बोली-पंजाबी में समझाओ इन्हें कानून

इस बीच बड़ी खबर ये आ रही है कि एम्स प्रशासन ने तत्काल आधार पर नर्सिंग अधिकारियों की भर्ती प्रक्रिया शुरू कर दी है. इसके लिए प्रशासन ने विज्ञापन जारी कर दिया है और इंटरव्यू के लिए उम्मीदवारों को कल बुलाया गया है. नर्सिंग यूनियन की मांगों में से यह भी एक मांग थी, जो काफी समय से लंबित थी.