IPS Sonali Parmar: 22 साल की उम्र में बन गईं IPS, सिविल सर्विस के लिए छोड़ी मेडिकल की पढ़ाई

by Waqar Panjtan
IPS Sonali Parmar: 22 साल की उम्र में बन गईं IPS, सिविल सर्विस के लिए छोड़ी मेडिकल की पढ़ाई

IPS Sonali Parmar: संघ लोक सेवा आयोग की साल 2021 की यूपीएससी परीक्षा (UPSC Exam) में कुल 685 उम्मीदवार सफल हुए थे. इनमें से एक भोपाल की रहने वाली सोनाली परमार भी हैं. यूपीएससी परीक्षा का यह उनका पहला प्रयास था और उन्होंने इसी में सफलता के झंडे गाड़ दिए हैं.

आईपीएस सोनाली परमार (IPS Sonali Parmar) शुरू से ही पढ़ाई में काफी होशियार थीं. वे जिला सीहोर तहसील इछावर के छोटे से गांव पालखेड़ी की रहने वाली हैं. सोनाली परमार स्कूल-कॉलेज में बेशक टॉपर थीं लेकिन किसी ने भी उनके इतनी कम उम्र और पहले ही प्रयास में यूपीएससी परीक्षा में सफल होने के बारे में नहीं सोचा था. जानिए आईपीएस सोनाली परमार की सक्सेस स्टोरी

IPS Sonali Parmar का फैमिली बैकग्राउंड

सोनाली परमार के पिता डॉ. राजेंद्र परमार एग्रीकल्चर विभाग में अधिकारी हैं. उनकी मां अर्चना परमार एग्रीकल्चर विभाग में असिस्टेंट डायरेक्टर हैं (IPS Sonali Parmar Family). ग्रामीण परिवेश में पली-बढ़ी सोनाली परमार ने अपने पहले अटेंप्ट और सिर्फ 22 साल की उम्र में IPS बनकर हर किसी को चौंका दिया है

इन IAS ऑफिसर से हुईं प्रेरित

सोनाली परमार ने 12वीं की परीक्षा साइंस स्ट्रीम से पास की थी. हालांकि फैमिली बैकग्राउंड एग्रीकल्चर होने की वजह से उनका झुकाव भी एग्रीकल्चर की तरफ था. वे जबलपुर विश्वविद्यालय से बीएससी एग्रीकल्चर में ग्रेजुएट हैं .उन्हें सिविल सेवा (Civil Services) में जाने की प्रेरणा जिले की पहली आईएएस अधिकारी प्रीति मैथिल से मिली थी.

ये भी पढ़ें : काम के साथ-साथ अपनी खूबसूरती के लिए जानी जाती हैं ये IPS,इनके नाम से कांपते हैं बड़े से बड़े अपराधी

पूरा किया बचपन का सपना

IPS Sonali Parmar ने मीडिया इंटरव्यू में बताया कि उन्होंने बचपन से ही अपने घर में अफसरों की बातें सुनी हैं. इस वजह से उन्होंने बचपन में ही IAS/IPS बनने का सपना देख लिया था. वे दिन-रात पढ़ाई करती रहती थीं. यूपीएससी परीक्षा पास करने का उनका लक्ष्य स्पष्ट था. वे लगातार 12 से 14 घंटे तक पढ़ाई करती थीं. इस दौरान उन्होंने मोबाइल फोन से भी दूरी बना ली थी.

इस तरह से की तैयारी

सोनाली परमार पढ़ाई के दौरान अपना मन भटकने नहीं देती थीं. वे रोजाना अपने लिए एक लक्ष्य निर्धारित करती थीं और उसे हासिल करने के लिए खूब मेहनत करती थीं. यूपीएससी परीक्षा 2021 में उन्होंने 187वीं रैंक हासिल की थी (IPS Sonali Parmar). खुद को करंट अफेयर्स से अपडेट रखने के लिए वे रोजाना अखबार जरूर पढ़ती थीं.

Ⓒ 2022 Copyright and all Right reserved for Newzbulletin.in