IPS Shivdeep Lande: जब महिला का भेष धर इस दबंग अफसर ने मनचलों को पहुंचाया जेल, नाम सुनकर कांपते हैं बदमाश

नई दिल्ली। आपने टीवी और फिल्मों में पुलिस वालों को भेष बदलकर अक्सर अप’राधियों को सबक सिखाते जरूर देखा होगा। आज हम आपको एक ऐसे ही अफसर की कहानी बता रहे हैं, जिसके नाम से अप’राधियों की रूह तक कांप जाती है।

ये कहानी है बिहार कैडर के IPS अधिकारी शिवदीप लांडे (IPS Shivdeep Lande) की, जिन्हें उनकी छवि के कारण ‘दबंग’, ‘सिंघम’ और ‘रॉबिन हुड’ जैसे नाम दिए गए हैं। शिवदीप लांडे हाल ही में मुंबई पुलिस एटीएस के पद से हाल ही में वापस बिहार भेजे गए हैं। शिवदीप लांडे के बिहार वापस लौटने की खबरों ने अप’राधियों में खौफ पैदा कर दिया है।

दरअसल, 2006 बैच के IAS अधिकारी शिवदीप इससे पहले बिहार में पटना, पूर्णिया, मुंगेर और अररिया में तैनात रह चुके हैं। वैसे तो शिवदीप (IPS Shivdeep Lande) महाराष्ट्र के अकोला जिले से ताल्लुक रखते हैं, लेकिन ज्यादातर उनकी तैनाती बिहार में रही। एक बार फिर बिहार में नियुक्ति से जहां बिहार पुलिस की ताकत बढ़ेगी, वहीं मनचले और अप’राधी अपने बिलों में दुबकने को मजबूर हो जाएंगे।

किसान के बेटे हैं IPS Shivdeep Lande

एक किसान परिवार में जन्मे शिवदीप लांडे दो भाईयों में से सबसे बड़े हैं। स्कूली शिक्षा पूरी करने के बाद उन्होंने इंजीनियरिंग की। इसके बाद उन्होंने मुंबई में रहकर संघ लोक सेवा आयोग (UPSC) की तैयारियां शुरू की। परीक्षा के दौरान ही उनकी नौकरी राजस्व विभाग में लगी, लेकिन उनका चयन सिविल सर्विस में हो गया।

ये भी पढ़ें : हीरों से लदी मूर्तियां, सोने-चांदी से सजा घर… ठाठ-बाठ हो तों अंबानी परिवार जैसे

नक्सल प्रभावित इलाके में हुई पहली पोस्टिंग

IPS के रूप में शिवदीप लांडे की पहली पोस्टिंग बिहार के मुंगेर जिले में एक नक्सल प्रभावित इलाके में हुई। इसके बाद पटना में अपने कार्यकाल के दौरान शिवदीप ने अपने काम से वहां के लोगों का ही नहीं बल्कि पूरे देश का दिल जीत लिया।

हालांकि, शिवदीप लांडे (IPS Shivdeep Lande) के कारनामे से अप’राधियों को परेशानी होने लगी। उनका कई बार ट्रांसफर भी हुआ, लेकिन शिवदीप ने अपनी कार्यशैली को नहीं बदला। वह दबंग अंदाज में अप’राधियों और कानून तोड़ने वालों की क्लास लगाते थे।

मनचलों को लाइन पर लाए

IPS अफसर शिवदीप लांडे की पोस्टिंग जब पटना में थी, तब उन्होंने मनचलों को खूब सबक सिखाया। कहते हैं कि शिवदीप ने अपना नंबर सार्वजनिक कर रखा था। खासतौर पर छात्राओं के मोबाइल में उनका नंबर जरुर होता था। एक बार पटना में शहर के बीचो-बीच तीन श’राबी एक लड़की को छेड़ रहे थे। उसने शिवदीप को फोन किया. उन्होंने लड़की को बचाकर मनचलों को गिरफ्तार कर लिया।

कुछ समय बाद शिवदीप का ट्रांसफर पटना से अररिया हो गया। लेकिन, लोगों में उनके प्रति दीवानगी कम नहीं हुई। उनके फोन पर कई लड़कियों के फोन और एसएमएस आते थे। शिवदीप ने एक इंटरव्यू में कहा था, ‘लोग आज भी मुझ पर भरोसा करते हैं, इसलिए अभी तक मुझे फोन और SMS आते हैं।

विनम्र स्वभाव के हैं IPS शिवदीप

मीडिया ने शिवदीप लांडे को भले ही ‘दबंग’ अफसर की छवि दी है, लेकिन वह दबंग नहीं हैं। शिवदीप ड्यूटी पर जितने सख्त हैं, उससे कई ज्यादा विनम्र हैं। आपको जानकर हैरानी होगी कि अपनी सैलरी का 60 प्रतिशत हिस्सा वह एक एनजीओ को दान करते हैं।

सामाजिक कार्यों में भी शिवदीप लांडे सबसे आगे रहते हैं। अब तक वह कई गरीब लड़कियों की सामूहिक शादी करवा चुके हैं। लड़कियों की सुरक्षा के मामले में वह सबसे आगे रहते हैं।

खनन माफियाओं में रहता है खौ’फ

रोहतास में पोस्टिंग के दौरान शिवदीप लांडे का खौ’फ खनन माफियाओं में फैल गया था। दरअसल, एक शिकायत के बाद शिवदीप खुद जेसीबी चलाते हुए पहुंचे और अवैध स्टोन क्रशरों को नष्ट करना शुरू कर दिया।

IPS शिवदीप के इस कारनामे से खनन माफियाओं में हड़कंप मच गया। कुछ ही दिनों बाद उनका ट्रांसफर हो गया, लेकिन आज भी वह उसी अंदाज में काम करते हैं।