शुक्रवार को ऐसे करें लक्ष्मी पूजन, होंगे कुंडली के दोष दूर, खुशियां बन जाएंगी आपकी गुलाम

नई दिल्ली: अगर आपकी कुंडली में किसी प्रकार का दोष है तो शुक्रवार (Goddess Lakshmi) को किए गए कुछ उपाय दोष (Friday Tips) से छुटकारा दिला सकते हैं।

जो आर्थिक तंगी (Money Tips) का सामना कर रहे होते हैं शुक्रवार के दिन मां लक्ष्मी (Goddess Lakshmi) का पूजन करते हैं। इस‍ दिन व्रत रखने का भी प्रावधान है।

शुक्रवार के दिन मां लक्ष्मी (Goddess Lakshmi), मां संतोषी की पूजा की जाती है। शास्त्रों में लक्ष्मी को चंचला कहा गया है। चंचला का मतलब है ऐसी देवी जिनका किसी एक स्थान पर अधि‍क समय तक रहना तय नहीं। वे चंचल हैं इसलिए एक स्थान पर ज्यादा नहीं रूकतीं। तभी तो कहते हैं न धन का क्या है आज आपको पास अपार है कल हो सकता है कि बिलकुल न हो…

हिंदू धर्म में लक्ष्मी (Goddess Lakshmi) को धन की देवी माना जाता है। इसलिए धन को अपने पास स्थाई बनाने के लिए मां लक्ष्मी का पूजन कर उन्हें प्रसन्न रखा जाता है, ताक‍ि वे कहीं ओर न जाएं। इसके लिए हिंदू धर्म में कई उपाय, पूजन, आराधना और मंत्र-जाप आदि का विधान है।

मान्यताएं

लक्ष्मी पूजन से जुड़ी कुछ मान्यताएं हैं, जिनका पालन करके ही मां लक्ष्मी का पूजन आदि किया जाता है।

मान्यता के अनुसार लक्ष्मी समुद्र-मंथन में निकली थीं। मंथन से पहले सभी देवता गरीब और ऐश्वर्य विहीन थे। समुद्र मंथन में लक्ष्मी के प्रकट होने के बाद इंद्र ने महालक्ष्मी की स्तुति की। इसके बाद महालक्ष्मी के वरदान के बाद उन्हें धन प्राप्त हुआ।

मान्यता है कि ऋषि विश्वामित्र के कठोर आदेश अनुसार ही लक्ष्मी साधना को गोपनीय एवं दुर्लभ रखा जाता है। कहते हैं कि मां लक्ष्मी की साधना को गुप्त रखना चाहिए।

शास्त्रों में महालक्ष्मी के आठ स्वरुपों का वर्णन है। मां के इन स्वरुपों को जीवन की आधारशिला माना गया है।

उपाय जो शुक्रवार को करना चाहिए

कुंडली में शुक्र अशुभ हो, तो वैवाहिक जीवन में सुख नहीं मिल पाता है। यहां जानिए कुछ ऐसे उपाय जो शुक्रवार को करना चाहिए, जिनसे लक्ष्मी (Goddess Lakshmi) कृपा मिल सकती है और शुक्र के दोष भी दूर हो सकते हैं।

1: भगवान विष्णु के मंत्र का 108 बार जप करें। मंत्र: ॐ भूरिदा भूरि देहिनो, मा दभ्रं भूर्या भर। भूरि घेदिन्द्र दित्ससि। ॐ भूरिदा त्यसि श्रुत: पुरूत्रा शूर वृत्रहन्। आ नो भजस्व राधसि।। यदि आप चाहे तो भगवान विष्णु के नामों का जप भी कर सकते है।

2: शुक्र ग्रह के लिए हीरा, चांदी, चावल, मिसरी, सफेद कपड़ा, दही, सफेद चंदन आदि चीजों का दान भी किया जा सकता है। किसी गरीब व्यक्ति को या किसी मंदिर में दूध का दान करें।

3: शुक्रवार को किसी विवाहित स्त्री को सुहाग का सामान दान करें। सुहाग का सामान जैसे चूड़ियां, कुमकुम, लाल साड़ी इस उपाय से देवी लक्ष्मी प्रसन्न होती है।

4: शिवलिंग पर दूध और जल चढ़ाए। साथ ही ॐ नमः शिवाय मंत्र का जप करें। मंत्र का जप कम से कम 108 बार करना चाहिए। जप के लिए रुद्राक्ष की माला का उपयोग करना चाहिए।