अब तक 35 लाख लोगों को मदद कर चुकी है ‘दानपात्र’, गरीबों के लिए फरिश्ते से कम नहीं है ये संस्था

कहते हैं जिसका कोई नहीं होता उसका भगवान होता है, ये कहावत है लेकिन इसकी हकीकत ढूंढने निकलेंगे तो आपको बहुंत ही कम लोग ऐसे मिलेंगे जो अपने अलावा बिना किसी स्वार्थ के लोगों की मदद करते हैं, जो काम देश की सरकारों को करना था, वह काम एनजीओ कर रहे हैं।

 

 

हम आपको ऐसे ही एक एनजीओ के बारे में बताने जा रहे हैं जिसका नाम है दानपात्र, जरूरतमंद लोगों की मदद करती है दानपात्र के मुताबिक अब तक उन्होंने 35 लाख लोगों की मदद की है, चलिए आपको बताते दानपात्र किस तरह करती है लोगों की मदद।

“दानपात्र” क्या है कैसे हुई इसकी शुरुआत ?

संस्था “दानपात्र” एक ऑनलाइन निःशुल्क ऐप के माध्यम से कार्य करती है जिसकी मदद से घरों में उपयोग में न आ रहे सामान जैसे कपड़े ,खिलोने ,किताबें ,जूते ,बर्तन इलेक्ट्रॉनिक आइटम्स , फर्नीचर एवं अन्य सामान को कलेक्ट कर उपयोग लायक बना जरूरतमंद परिवारों तक पहुँचाया जाता है पिछले 4 वर्षों में दानपात्र के माध्यम से लगभग 35 लाख से ज्यादा जरूरतमंद परिवारों तक मदद पहुंचाई जा चुकी है।

देश भर में कार्य कर रही संस्था “दानपात्र” से 25 हजार से ज्यादा वालंटियर्स जुड़े हुए है जो अपना समय देकर सहयोग करते है संस्था “दानपात्र” द्वारा अलग अलग शहरों में सेंटर बनाएं गए है जहां आकर कोई भी ऐप में रिक्वेस्ट डालकर सामान डोनेट कर सकता है “दानपात्र” टीम द्वारा इस सामान को फिल्टर कर उपयोग लायक बना जरूरतमंद परिवारों तक पहुँचाया जाता है ।

“दानपात्र” देने वाले और लेने वालों के बिच सेतु बनकर दोनों की ही मदद कर रहा है संस्था दानपात्र का नाम वर्ल्ड बुक ऑफ रिकॉर्ड , 2 बार इंडिया बुक ऑफ रिकॉर्ड के साथ साथ कई रिकॉर्ड्स में दर्ज किया जा चुका है

संस्था गरीब एवं जरूरतमंदों की मदद के साथ-साथ नि:शुल्क शिक्षा के माध्यम से बच्चों एवम महिलाओं को शिक्षित कर रही है दानपात्र निःशुल्क पाठशाला देश के कई शहरों में हजारों बच्चों को निःशुल्क शिक्षा देकर शिक्षित कर रही है जिससे आर्थिक परिस्थितियों के चलते जो बच्चें पढ़ नही पाते है वह दानपात्र निःशुल्क पाठशाला के माध्यम से अपने अधूरे सपनों को पूरा कर रहे है ।

इंदौर के साथ साथ अयोध्या मथुरा , बिहार , उज्जैन , भोपाल , सूरत अहमदाबाद , जबलपुर , ओडिशा एवं देश के 50 से अधिक शहरों में “दानपात्र” के माध्यम से किया जा रहा सेवा कार्य

इंदौर के साथ साथ उज्जैन , भोपाल , बिहार , सूरत , मथुरा , ओडिशा जबलपुर , अहमदाबाद एवम देश के 50 से अधिक शहरों में “दानपात्र” के माध्यम से सेवा कार्य कर लोगों की मदद की जा रही है जल्द ही पूरे भारत के साथ साथ अन्य देशों में भी शुरू किया जाने वाला है दानपात्र

बेकार कुछ नहीं है

बेकार कुछ नहीं है बस जरुरत है की हमें पता होना चहिये की बेकार सामान को किस तरह उपयोग में लाया जा सकता है जो लोग पुराने सामान को बेकार समझ कर फेंक दिया करते है उनके लिए “दानपात्र” प्रेरणा है की किस तरह टेक्नोलॉजी का प्रयोग करके पुराने सामान को रीसायकल कर लाखों लोगो की मदद की जा सकती है उनकी जिंदगी को बेहतर बनाया जा सकता है

आप भी जुड़ सकते है “दानपात्र” से

आप भी अपने उपयोग में न आ रहे पुराने सामान को डोनेट करके या फिर वालंटियर बनकर “दानपात्र” से जुड़ सकते है इसके
लिए आप “दानपात्र” के हेल्पलाइन नंबर 6263362660 ,7828383066 पर संपर्क कर सकते है

“दानपात्र” टीम द्वारा हाल ही में दिवाली के उपलक्ष्य में मिशन 1 मिलियन पूरा किया गया

दिवाली के उपलक्ष्य में संस्था दानपात्र द्वारा जरूरतमंद परिवारों तक मदद पहुँचाने के उद्देश्य से 25 हजार से ज्यादा वालंटियर्स द्वारा देश के 50 से अधिक शहरों में लगभग 10 लाख से ज्यादा जरूरतमंद परिवारों तक कपड़े , राशन किताबे एवम अन्य जरूरत का सामान पहुंचाकर उनकी मदद की गई ।