बरसों बाद खुला राज, जन्म से हिंदू थी कोरियोग्राफर सरोज खान; मुंबई की जामा मस्जिद में कबूला था इस्लाम

नई दिल्ली. बॉलीवुड कोरियोग्राफर सरोज खान अब इस दुनिया में नहीं रही. उनके जाने से पूरा बॉलीवुड गमगीन है. बहुत कम ही लोग जानते हैं सरोज खान जन्म से एक हिंदू थी. लेकिन यह राज सामने आने के बाद हर कोई जानना चाहता है कि आखिर वो कौनसी वजह थी जो सरोज खान ने अपना धर्म बदल लिया.

सरोज खान ने बॉलीवुड में चार दशक से लंबी पारी खेली है. उन्होंने कई बेहतरीन गानों को कोरियोग्राफ कर एक अलग पहचान बनाई. लेकिन सरोज खान के करियर के अलावा उनकी निजी जिंदगी में खूब सुर्खियों में रही है. उनके बयानों से लेकर उनकी निजी जिंदगी तक, सब कुछ खबरों में बना रहता था.

एक इंटरव्यू में खोला था राज

सरोज खान ने कुछ साल पहले एक पाकिस्तानी चैनल को इंटरव्यू दिया था. अब वैसे तो उस इंटरव्यू में उन्होंने कई मुद्दों पर बात की थी, लेकिन सभी की नजर गई उनके इस बयान पर. सरोज खान की माने तो शादी से पहले वो एक हिंदू थीं. उनका असल नाम सरोज किशन चंद साधू सिंह नागपाल था. वो एक सिंधी पंजाबी थीं.

ये भी पढ़ें : नहीं रही बॉलीवुड हीरोइनों को अपनी उंगलियों पर नचाने वाली मशहूर डांस कोरियोग्राफर सरोज खान

सरोज खान ने बताया था कि शादी के बाद उन्होंने इस्लाम को कुबूल किया था. उन्होंने अपने इस कदम के पीछे दो बड़ी वजह बताई थीं.

ये थी वो वजह

पहली वजह तो ये थी सरोज खान को इस्लाम धर्म में बच्चों की रुचि देख अच्छा लगता था. उन्होंने इंटरव्यू में कहा था- मैं जब छोटे बच्चों को इस्लाम का पालन करती देखती थीं, इबादत करती देखती थी तो अच्छा लगता था.

सरोज खान के मुताबिक उन्हें हिंदू धर्म में ऐसा होता नहीं दिखता था. इसलिए उन्होंने इस्लाम कुबूला था. वैसे सरोज खान का इस्लाम कुबूल करना एक सपने से भी जुड़ा हुआ है. वो बताती हैं कि उन्हें सपने में एक बच्ची मस्जिद के अंदर से पुकारती थी. सपने में वो बच्ची सरोज खान को अपनी मां बताती थी और बार-बार उन्हें पुकारती थी. सरोज खान को वो सपना कई बार आता था. ऐसे में उन्होंने इस्लाम धर्म को कुबूल किया.

अपनी खुशी से कबूला था इस्लाम

वैसे इंटरव्यू में सरोज खान ने इस बात पर जोर दिया कि उन्हें कभी भी इस्लाम कुबूल करने के लिए मजबूर नहीं किया गया. उन्होंने अपनी खुशी से धर्म परिवर्तन किया था और हिंदू धर्म को छोड़ इस्लाम कुबूला था.

ये भी पढ़ें: सरोज खान के जाने से सदमे में माधुरी दीक्षित, बोली-मैंने अपना गुरु और दोस्त हमेशा के लिए खो दिया

सरोज खान ने ये भी बताया कि उन्होंने मुंबई के सबसे बड़े जामा मज्जिद में धर्म परिवर्तन किया था. उसके बाद से पूरी दुनिया उन्हें सरोज खान के नाम से जानने लगी. अब ये सरोज खान की जिंदगी का वो पहलू है जो शायद ही पहले किसी को पता था. लेकिन फिर भी कोरियोग्राफर का धर्म कोई भी रहा हो, उन पर पूरी दुनिया गर्व महसूस करती है. उनके काम की तारीफ करती है.