Uber कर्मचारियों पर पड़ी लॉकडाउन की मार, 600 कर्मचारियों को नौकरी से निकाला

नई दिल्ली. कोरोना संकट के कारण लॉकडाउन का असर लोगों की नौकरियों पर पड़ने लगा है. कंपनियों का मुनाफा घटने की वजह से कर्मचारियों की छंटनी शुरू हो गई है. Uber ने भी भारत में मुनाफा घटने के कारण 600 कर्मचारियों को नौकरी से निकालने का ऐलान किया है. निकाले गए कर्मचारी ऊबर के कुल कर्मचारियों का एक चौथाई हिस्सा है.

कोरोना वायरस महामारी के चलते लिया फैसला

जिन कर्मचारियों को निकाला जा रहा है उनमें ड्राइवर्स से लेकर राइडर सपोर्ट ऑपरेशंस के स्टाफ भी शामिल हैं. इसके अलावा कुछ और कर्मचारी ऐसे भी हैं, जो ऑफिस फ्रंट पर कंपनी का काम करते हैं. Uber इंडिया के दक्षिण एशिया कारोबार अध्यक्ष प्रदीप परमेस्वरन ने खुद कर्मचारियों को निकालने की घोषणा एक बयान जारी करके दी है.

ये भी पढ़ें  बस विवाद पर UP कांग्रेस अध्यक्ष अजय लल्लू गिरफ्तार, आगबबूला प्रियंका बोली – जारी रहेगा संघर्ष

Uber का तर्क है कि कोरोना वायरस महामारी के चलते ऐसा कदम उठाना पड़ रहा है. प्रदीप परमेश्वरन के अनुसार, कंपनी को ये फैसला लेते हुए बेहद दुख हो रहा है लेकिन ये भविष्य के लिए जरूरी है. उन्होंने कहा कि अपने ड्राइवर्स सहित सभी सहयोगी स्टाफ को उनके अब तक के सहयोग के लिए कंपनी धन्यवाद करती है.

दी जाएगी तीन महीने की सैलरी

हालांकि, Uber ने जिन लोगों को नौकरी से निकालने का एलान किया है] उन्हें तीन महीने की सैलरी समेत छह महीने की मेडिकल इंश्योरेंस की सुविधा दी जाएगी. पिछले हफ्ते Uber इंडिया की पेरेंट कंपनी Uber टेक्नोलॉजीज जो ने भी अपने कर्मचारियों में 23 फीसदी कटौती करने का एलान किया था. कंपनी के मुताबिक ये फैसला पहले लिए गए ग्लोबल जॉब कटौती के निर्णय के तहत ही आता है.

Comments are closed.