होम्योपैथी से हो सकता है कोरोना का इलाज, बजाज ऑटो के CMD राजीव बजाज बोले – मुफ्त बांटेंगे दवा

0
213
Rajiv Bajaj
राजीव बजाज की फाइल फोटो (साभार: गूगल)

नई दिल्ली। दुनियाभर में कोरोना वायरस संक्रमण के बीच रिसर्च का काम तेजी से चल रहा है। इस खतरनाक वायरस को खत्म करने के लिए दुनियाभर के वैज्ञानिक काम कर रहे हैं। इस बीच होम्योपैथी के जरिए कोरोना के इलाज का दावा किया है। यह दावा इसलिए भी प्रबल है क्योंकि इसका खुलासा खुद बजाज मोटर्स के प्रबंध निदेशक राजीव बजाज ने किया है।

एक समाचार चैनल से बातचीत के दौरान राजीव बजाज ने बताया कि मुंबई में रहने वाले उनके फैमिली डॉ. राजन संकरन ने होम्योपैथी दवा के बारे में बताया था। यह दवा 10 साल पहले स्वाइन फ्लू में भी कारगर साबित हुई थी।

बजाज के अनुसार, दस साल पहले पुणे में स्वाइन फ्लू फैला था। तब डॉ. राजन संकरन के मार्गदर्शन में बजाज और तकरीबन 50 हजार लोगों को जेल्सीमियम दवा दी गई थी। जिन लोगों को ये दवा दी गई उन्हें स्वाइन फ्लू का संक्रमण नहीं हुआ।

राजीव बजाज ने कहा कि सरकार ने अगर होम्योपैथी की दवा के इस्तेमाल करने की इजाजत दी तो वह 650 करोड़ रुपये खर्च करके देश के 130 करोड़ नागरिकों को मुफ्त में होम्योपैथी की दवा देने को तैयार हैं।

चैनल से बातचीत में डॉ. राजन संकरण ने कहा कि ईरान में एक डॉक्टर के साथ मिलकर उन्होंने 30 कोरोना संक्रमित मरीजों पर इस दवा का प्रयोग किया था। डॉ. राजन के मुताबिक, यह दवा देने के बाद कोरोना वायरस से संक्रमित मरीजों के ठीक होने की रफ्तार में तेजी देखी गई। इसके अलावा कोरोना मरीजों के संपर्क में आए 100 लोगों को होम्योपैथी दवा दी गई और उनमें कोरोना के लक्षण नजर नहीं आए।

डॉक्टर राजन संकरन ने बताया कि यही अनुभव उन्हें रोमानिया में भी देखने को मिला है। उन्होंने बताया कि रोमानिया में एक हजार से ज्यादा हाई रिस्क लोगों यानी डॉक्टर्स, फार्मासिस्ट को प्रिवेंटिव के तौर पर होम्योपैथ की दवा दी गई और उनमें कोरोना के कोई लक्षण नहीं दिखाई दिए। इसी तरह ब्राज़ील में भी एक हजार से ज्यादा हाई रिस्क यानी डॉक्टर्स, फार्मासिस्ट को प्रिवेंटिव के तौर पर होम्योपैथ की दवा दी गई. इनमें से सिर्फ चार लोगों में ही लक्षण दिखाई दिए।

डॉ. के मुताबिक, उन्होंने सरकार को एक पत्र लिखकर एलोपैथिक दवाओं के साथ होम्योपैथी की दवा के इस्तेमाल की अनुमति मांगी है। डॉ. राजन के अलावा पुणे के एक और मशहूर डॉ. अमर सिंह निकम ने भी होम्योपैथी से कोरोना मरीजों के इलाज का दावा किया है। उनका कहना है कि यह मुमकिन इसलिए है, क्योंकि होम्योपैथी दवाएं प्रतिरोधक शक्ति बढ़ाने में मददगार हैं।